लाख इशारे कर लो,मिन्नतें कर लो,मौसम बदलता है लेकिनअपने समय पर ही…हमारी बात और है,कई कारण हैं हमारे पासखुद को बदलने का,कहीं भी कभी भी… 🌾🌾🌾🌾🌾🌾 Make a million gestures,go on pleading,but the weather changesat its own time…we are different,we have many reasonsto change ourselves,anywhere anytime… –Kaushal Kishore

बदलाव / Change